पापा ने मेरी सलवार का नाडा खोल दिया

मेरा नाम नीतिशा है. मेरी उम्र लगभग 29 वर्ष की हो चुकी है. मेरी शादी एक इंजीनियर से हुयी है. लेकिन मैं आपको अपनी पहली चुदाई की कहानी सूना रही हूँ.
तब मैं मैं अपने मामा के यहाँ रह कर पढ़ाई करती थी. मेरी उम्र 18 वर्ष की थी. मेरा घर गाँव में था. मेरे कॉलेज में छुट्टी हो गयी थी. मैंने अपने पापा को फ़ोन किया और कहा कि वो आ कर घर ले जाएँ. मेरे पापा मुझे लेने आ गए. हम दोनों ने रात नौ बजे ट्रेन पर चढ़ गए. ट्रेन पैसेंजर थी. रात भर सफ़र कर के सुबह के 5 बजे हम लोग अपने गाँव के निकट उतरते थे.

उस ट्रेन में काफी कम पैसेंजर थे. उस पूरी बोगी में सिर्फ 20- 22 यात्री रहे होंगे. उस पैसेंजर ट्रेन में लाईट भी नहीं थी. जब ट्रेन खुली तो स्टेशन की लाईट से पर्याप्त रौशनी हो रही थी. लेकिन ट्रेन के प्लेटफोर्म को छोड़ते ही पुरे ट्रेन में घना अँधेरा छा गया. हम दोनों अकेले ही थे. करीब आधे घंटे के बाद ट्रेन एक सुनसान जगह खड़ी हो गयी. यहाँ पर कुछ दिन पूर्व ट्रेन में डकैती हुयी थी. पूरी ट्रेन में घुप्प अँधेरा था और आसपास भी अँधेरा था. हम दोनों को डर सा लग रहा था. पापा ने मुझसे कहा – बेटी एक काम कर. ऊपर वाले सीट पर सो जा.
मैंने कम्बल निकाला और ऊपर वाले सीट पर लेट गयी. लेकिन ट्रेन लगभग 10 मिनट से उस सुनसान जगह पर खड़ी थी. तभी कुछ हो हंगामा की आवाज आई. मैंने पापा से कहा – पापा मुझे डर लग रहा है.
पापा ने कहा – कोई बात नहीं है बेटी, मैं हूँ ना.
मैंने कहा – लेकिन आप तो अकेले हैं पापा, यदि कोई बदमाश आ गया और मुझे देख ले तो वो कुछ भी कर सकता है. आप प्लीज ऊपर आ जाईये ना.
पापा – ठीक है बेटी.
पापा भी ऊपर आ गए और कम्बल ओढ़ कर मेरे साथ सो गए. अब मैं उनके और दीवार के बीच में आराम से छिप कर थी. अब किसी को पता भी नहीं चल पायेगा कि इस कम्बल में कोई लड़की भी है. थोड़ी ही देर में ट्रेन चल पड़ी.
हम दोनों ने राहत की सांस ली. मैंने पापा को कस कर पकड़ लिया. ट्रेन की सीट कितनी कम चौड़ी होती है आपको पता ही होता है. इसी में हम दोनों एक दुसरे से सट कर लेटे हुए थे. पापा ने भी मुझे अपने से साट लिया और कम्बल को चारो तरफ से अच्छी तरह से लपेट लिया. पापा मेरी पीठ सहला रहे थे. और मुझसे कहा – अब तो डर नहीं लग रहा ना बेटी?
मैंने पापा से और अधिक चिपकते हुए कहा – नहीं पापा. अब आप मेरे साथ हैं तो डर किस बात की?
पापा – ठीक है बेटी. अब भर रास्ते हम दोनों इसी तरह सटे रहेंगे. ताकि किसी को ये पता नहीं चल सके कि कोई लड़की भी इस बर्थ पर है.
ट्रेन अब धीरे धीरे रफ़्तार पकड़ चुकी थी. पापा ने थोड़ी देर के बाद कहा – बेटी तू कष्ट में है. एक काम कर अपना एक पैर मेरे ऊपर से ले ले. ताकि कुछ आराम से सो सके.
मैंने ऐसा ही किया. इस से मुझे आराम मिला. लेकिन मेरा बुर पापा के लंड से सटने लगा. ट्रेन के हिलने से पापा का लंड बार बार मेरे बुर से सट जा रहा था.
अचानक पापा ने मेरे चूची को दबाना चालू कर दिए. मैंने शर्म के मारे कुछ नहीं बोल पा रही थी. हम दोनों के मुंह बिलकुल सटे हुए थे. पापा ने मुझे चूमना भी चालू कर दिया. मैं शर्म के मारे कुछ नहीं बोल रही थी.
पापा ने मेरी सलवार का नाडा पकड़ा और उसे खोल दिया और कहा – बेटा तू सलवार खोल ले.
मैंने सलवार खोल दिया. पापा ने भी अपना पायजामा खोल दिया.
अब पापा ने मेरी पेंटी में हाथ डाला और मेरी चूत के बाल को खींचने लगे. मैंने भी पापा के अंडरवियर के अन्दर हाथ डाला और पापा के तने हुए 6 इंच के लौड़े को पकड़ कर सहलाने लगी. आह कितना मोटा लौड़ा था… मुठ्ठी में ठीक से पकड़ भी नहीं पा रही थी.
पापा ने मेरी पेंटी को खोल कर मुझे नग्न कर दिया. फिर अपना अंडरवियर खोल कर मेरे ऊपर चढ़ गए. मेरे चूत में ऊँगली डाल कर मेरे चूत का मुंह खोला और अपना लंड उसमे धीरे धीरे घुसाने लगे. मैं शर्म से मरी जा रही थी. लेकिन मज़ा भी आ रहा था. पापा ने मेरे चूत में अपना पूरा लौड़ा घुसा दिया. मेरी चूत की झिल्ली फट गयी. दर्द भी हुआ और मैं कराह उठी. लेकिन ट्रेन की छुक छुक में मेरी कराह छिप गयी.
पापा मुझे चोदने लगे. थोड़े देर में ही मेरा दर्द ठीक हो गया और मैं भी चुपचाप चुदवाती रही. करीब 10 मिनट की चुदाई में मेरा 2 बार झड गया. 10 मिनट के बाद पापा के लौड़े ने भी माल उगल दिया. पापा निढाल हो कर मेरे बगल में लेट गए. लेकिन मेरा मन अभी भरा नहीं था.
मैंने पापा के लंड को सहलाना चालू किया. पापा समझ गए कि उनकी बेटी अभी और चुदाई चाहती है.
पापा – बेटी, तू क्या एक बार और चुदाई चाहती है.
मैंने – हाँ पापा.. एक बार और कीजिये न..बड़ा मजा आया..
पापा – अरे बेटी, तू एक बार क्या कहे मैं तो तुझे रात भर चोद सकता हूँ.
मैंने – ठीक है पापा, आप की जब तक मन ना भरे मुझे चोदिये. मुझे बड़ा ही मज़ा आ रहा है.
पापा ने मुझे उस रात 4 बार चोदा. सारा बर्थ पर माल और रस और खून गिरा हुआ था. सुबह से साढ़े तीन बज चुके थे.
पांचवी बार चुदाई के बाद हम दोनों नीचे उतर आये. मैंने और पापा ने अपने पहने हुए सारे कपडे को बदल लिया और गंदे हो चुके कपडे और कम्बल को चलती ट्रेन से बाहर फेंक दिया. मैंने बोतल से पानी निकाला और मुंह हाथ साफ़ कर के बालों में कंघी कर के एकदम फ्रेश हो गयी.
पापा ने मुझे लड़की से स्त्री बना दिया था. मुझे इस बात की ख़ुशी हो रही थी कि यदि मेरे कौमार्य को कोई पराया मर्द विवाह पूर्व भाग करता और पापा को पता चल जाता तो पापा को कितनी तकलीफ होती. लेकिन जब पापा ने ही मेरे कौमार्य को भंग कर मुझे संतुष्टि प्रदान की है तो मैं पापा की नजर में दोषी होने से भी बच गयी और मज़ा भी ले लिया.
यही सब विचार करते करते ठीक पांच बजे हमारा स्टेशन आ गया और हम ट्रेन से उतर कर घर की तरफ प्रस्थान कर गए.
घर पहुँचने पर मौका मिलते ही पापा मुझे चोद कर मुझे और खुद को मज़े देते थे.

यह कहानी भी पड़े  मेरी बहेन की कची चूत

Pages: 1 2

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


हिंदी सेक्स स्टोरी स्कर्ट और पतली पैंटीटेरेन मेचुत चुदाई कि कहाणियाटीचर ने घर बुलकर मुझे चोदा सॅक्स स्टोरीaunty ki chudayan part vize hindi mAntarvasna sadhuain ke choda kahaniभौजाई किवाड़ बंद नंगा चूत3boba vali ladki ki braकालीचुत लँडहिंदी सेक्स स्टोरी Kamvasna stoye hinde xnxxगर्लफ्रेन्ड की चूदाई कहानीchachi bhatiza duble mining hindi storyपुचा पुचिची कथाDidi ko baramade me sex storiesvidhva bhabioy chuday ki hindi kahaniसेक्सी कहानी लग्न बहन कीUsha ki bhabi ko ptakr choda storyचुत मे सुहागरात को जबरसती लंड पेलना mami ke sath bathroom mein sex storyमाँ की इच्छा पूरी की अन्तरवासनab ja ke mili santusti sex storiesचोदीहिँदि कहानी पटने वाला XXX मजेदार/sex videoa chut me loha gusayaदोस्त की मम्मी चुदाईsamuhik humera sex hindi storyBhabi ke nakre x kahaniGai17.netmomki chudaeecomमाँ की सामूहिक चुदाईफुला चुततेरी बीवी की ब्रा उतार रहा हूंरंडि ने सौतेली माँ गाड चोदि पोरन विडियो फोटोAntrvasna reshton sas damad.लन्ड का सूपड़ा ही घुस पाया मेरी चूत मैंमूत पीकर चूत का मजाCHACHI KA BUR CHODA KAGANIमौसी ने चोदाया बेटे से कहानीkayum ne aurat ki chudqyi kiphupheri bahan xxx video hindi storiyजितना खेत में चोदने वाले बेब सेक्सaslam ka land chusa hindi sex storyफेसबुक से बहन को पटाकर सील तोड़ीदोग्गी सेक्सक्स videoBivi chudhi selsmen se storiChut deke badla liya sex xxxबुर को जीभ से चुदाई की कहानीशरीफ नौकरानी चुदाई की कहानियांXxx hindi Didi Ki Chut kandom se mari Hotel metorixxx in hindi story mom baat ankle land khet patiMami ki nokri part 2 xxx suoriessasural ki holi xx storyसेक्सी चुदक्कड़ पेशाब पीने वाली औरत की कहानीमाँ की सेक्सी कहानीनविन नोकर मलकिन शेकशी काहणीसुवागरात की मजा की कहानियाँJaise gaand me lund ghusha didi uchalimauseri behan ka badannigah halala m mast chudai ki kahaniचाचि बुर यौन गालिbudhe ka land ma ki bacchedani me sexrinababi kixxxMausi aur maa ki tubewel pr chudai ki trin में बहन बीवी भाभी कि अजनबियों के साथ सेक्स कहानीयाsakse cdai video dekayoभाई बहन और भांजी की चुदाई जवाब सवाल सेक्स स्टोरीनेहा मौसी कि चुदाईchdai story mausi ki gaand pelaakamuk lambi kahaniसफर मे चुदाइ stories Masi ki gand marakrmare samane dost or biwi cudi Marathi sex story