ननद और भाभी की चुदाई

मेरी उम्र छब्बीस साल है और मैं सरकारी दफ़्तर में ऑडिटिंग ऑफिसर हूँ और हमारे दफ़्तर की शाखायें पूरे देश में हैं और अक्सर मुझे काम के सिलसिले में दूसरे शहरों की शाखाओं में कुछ महीनों के लिये जाना पड़ता है। मैं शादीशुदा नहीं हूँ इसलिये मुझे इसमें कोई दिक्कत नहीं होती है। अपनी पिछली कहानी (प्रमोशन की मजबूरी) में जैसे कि मैंने आपको बताया था कि कैसे लखनऊ पोस्टिंग के दौरान मैंने अपनी सहकर्मी रूबिना को चोदा।

इस बार दफ़्तर के काम से मेरी पोस्टिंग चंडीगढ़ हुई थी। वहाँ मैंने अपने सह-कर्मचारी की मदद से एक जगह पेइंग-गेस्ट के तौर पे कमरा किराये पर ले लिया। उस मकान में मकान मालिक रशीद अहमद थे जो कि चालीस वर्षीय थे और सेना में मेजर थे। फिलहाल वो एक महीने के लिये छुट्टी पर आये थे। उनकी बीवी नज़ीला करीब पैंतीस के ऊपर थीं और स्कूल में टीचर थीं। नज़ीला भाभी का जिस्म काफी मस्त और सुडौल था। उनकी बड़ी-बड़ी चूचियाँ और गोल-गोल चूतड़ थे। जब वो ऊँची हील के सैंडल पहन कर गाँड मटका कर चलती थी तो उन्हें देख कर किसी का भी लंड अपने आप खड़ा हो जाता था। उनकी कोई औलाद नहीं थी। रशीद जी और नज़ीला भाभी दोनों बहुत मिलनसार थे और खुले विचारों वाले थे। मियाँ-बीवी में खूब जमती थी। वो लोग मुझसे घर के सदस्य की तरह ही बर्ताव करते थे, कभी मुझे पराया नहीं समझते थे। जब तक रशीद जी की छुट्टी रही हम दोनों हर शुक्रवार और शनिवार को जम कर पीते थे और नज़ीला भाभी भी हमारा साथ देती थी। उस वक्त उनकी अदा काफी सैक्सी और अलग लगती थी।

एक बार रशीद जी और नज़ीला भाभी सुबह सो रहे थे। मैंने नहा-धोकर सोचा की काम वाली नौकरानी तो आयी नहीं है और नज़ीला भाभी भी अभी उठी नहीं है तो चाय कौन पिलायेगा। इसलिये मैं खुद ही रसोई में केवल टॉवल लपेट कर चाय बनाने चला गया। जब चाय बन कर तैयार हो गयी तो देखा नज़ीला भाभी रसोई में खड़ी-खड़ी मुझे देख रही थी।

यह कहानी भी पड़े  बहन की चूत का शुद्धिकरण किया

वो बोली, “दीनू! मुझे उठा लिया होता तो मैं ही चाय बना देती।”

मैंने कहा, “आप लोगों की नींद खराब ना हो इसलिये मैंने आप को नहीं जगाया और सोचा जब चाय बन जायेगी तो आप लोगों को जगा दुँगा।”

इतने में वो मेरे पास आकर खड़ी हो गयी। तब मैं चाय को छलनी से छान रहा था कि पता नहीं कैसे मेरा टॉवल खुल कर नीचे गिरा और मैं बिल्कुल नंगा हो गया क्योंकि अंदर कुछ भी नहीं पहना था। मुझे नंगा देख कर वो अवाक रह गयी और सिर झुका कर खड़ी हो गयी। मैंने तुरंत चाय का बर्तन नीचे रखा और टॉवल उठा कर लपेट लिया। जब तक मैंने नंगे जिस्म को टॉवल में कैद नहीं किया वो तिरछी नज़र से मेरे मोटे और लंबे लौड़े को घूर रही थी।

मैंने कहा, “सॉरी भाभी!”

वो बोली, “कोई बात नहीं… तुमने जानबूझ कर तो नहीं किया… ये सब अचानक हो गया!”

फिर वो चाय की ट्रे लेकर अपने कमरे में चली गयी। मैं भी तैयार होकर दफ़्तर चला गया। शाम को जब सात बजे घर आया तो साथ में व्हिस्की लेकर आया क्योंकि शुक्रवार था और शनिवार और रविवार को मेरी छुट्टी रहती है।

घर आकर फ्रैश होके करीब पौने-नौ बजे रशीद जी और मैं पीने बैठे। अभी हमारा एक पैग भी खतम नहीं हुआ था की रशीद जी ने नज़ीला भाभी को बुलाया और कहा, “डार्लिंग तुम भी आ जाओ और हमें कंपनी दो।”

नज़ीला भाभी भी एक ग्लास लेकर आयी और पैग बना कर रशीद जी के बगल में बैठ कर पीने लगी। मैं और रशीद जी बरमुडा और टी-शर्ट पहने हुए थे और नज़ीला भाभी ने पारदर्शी नाइटी पहनी थी जिस में से उनकी काली रंग की ब्रा और पैंटी साफ़ दिख रही थी। दो पैग पीते ही हम तीनों को थोड़ा-थोड़ा नशा होने लगा।

यह कहानी भी पड़े  Bhai Se Chut Chudwai Bahana Bana Kar

अपना जाम उठा कर पीते हुए रशीद जी बोले, “यार दीनू! मेरी छुट्टी तो खतम हो रही है, और मंडे की सुबह मुझे आसाम के लिये रवाना होना है। अब मैं छः महीने बाद आऊँगा… तुम घर का और नज़ीला का खयाल रखना।”

मैंने कहा, “डोंट वरी मेजर साहब! ऑय विल टेक केयर! मैं भी यहाँ करीब छः महीने के लिये ही हूँ!”

वो बोले, “यार अब दो दिन बचे हैं… जम कर मौज करेंगे!”

फिर उन्होंने नज़ीला भाभी के कंधे पर हाथ रख दिया। हम सब बातों में मशगूल थे की अचानक मेरी नज़र नज़ीला भाभी पर पड़ी। मैंने देखा कि रशीद जी जाम पीते-पीते नज़ीला भाभी की बायीं चूची को दबा रहे थे। ये देख कर मेरा लंड अपनी हर्कत में आ गया लेकिन मैं अंजान बना रहा। फिर भी मेरी नज़र बार-बार नज़ीला भाभी की चूचियों पर जा रही थी। जब मेरी और नज़ीला भाभी की नज़र चार हुई तो वो मुझे देख कर मुस्कुराने लगी।

खैर पीने का प्रोग्राम खतम करके हम लोगों ने खाना खाया और अपने कमरों में सोने के लिये चले गये। मुझे नींद नहीं आ रही थी। करीब साढ़े-बारह बजे मैं उठ कर पेशाब करने गया और वापस आते हुए देखा कि रशीद जी के कमरे की लाईट जल रही थी। मेरे मन में जिज्ञासा हुई कि खिड़की से झाँक कर देखूँ कि वो क्या कर रहे हैं। मैंने खिड़की से झाँख कर देखा तो वो दोनों बिल्कुल नंगे थे और रशीद जी नज़ीला भाभी की चूत चटाई कर रहे थे। नज़ीला भाभी उनका सिर पकड़ कर उनका चेहरा अपनी चूत में दबा रही थी।

Pages: 1 2 3 4 5 6 7

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


चूत के से चोदि जाति है बतामाँ बेटा गर्मी चूत रांड हरामी चोदचुदाईचुदाई की प्यासी मेरी बहना18 साल की सेकसी लडकियो की कहनीमेरी गांड भी बहुत ही बुरी तरह से मारता थाबरसात मे मामी को चोदाjabrjsti baadhkr bhan ki sexy storyरडी को कुतीया वनाकर चौदी विडीयोगांड़ फाड दीचाचि भाबि और बुअ कि चुदाई बष मेtayi ki gaand sexbaba.comमहिला और सर का चुदाईboobs.बूबस मोसिporn mauslim maa story pasab HindiantarvasnaChut chatte smy muh me mutnabhabhi ko maxi me choda Hindi kahaniदीदी चुद गई चाचा के साथ मेंchik nikal gaand faad indian sexपापा के लुंड से मेरी सिल टूटी कहानीmutnae ki kahani bhabhi kiट्रेन में माँ की चुदाईHindi sex storyअधिक से अधिक चुदाई की कहानियाँAntarvasna didi sdisuda holichadar rajai me nangi sexxossip रामलाल और राधा बहूDamadsexstoriesजेठने खेला प्यार भरी चुदाई वाला खेल ...पड़ोसन छूट की स्टोरीसफर मे चूदाई फिल्मेikamukta / 'dat कॉमpishtola dekhai cbudaididi ki thukai pe thukaiManno devi ki chudaiSadi suds orat ki chodar kahani hindi maiXxxnnxxx मम्मी के सामनेअस्पताल की मस्त कहानियाTRAN NXXX STORIwww.दीदी की चूत में बॉस लंड का वीरयभैय्या मुझे चुदना हैbyan ki chachi chudaiantrwasna mjboori kiकमला kake ke chudae की कहानी Bivi chudhi selsmen se storiSex khaniसेक्स कहानियाँ बहन की मद्द से भाबी को चोदा तो चुत फट गयीBenkar gandh cudai sex xxxmom ne muje chudai shikhai hindibathroom me kapade badalati ladkiya x kahani hindiसेकसी चुत लडNaujar se dedi ki chodai kahani part 2पापा सेक्स हिन्दी कहानीnhabhi vidhva chudayi kahanisalmakichudaiSexsygirl ke sath sex kahaniअंतर बासना मम्मी नादान बेटे की इच्छाMere hanth me chot lagne ke karn maa ne meri muth mari hindi storyमोठे लुंड से गुंडों से मस्त छुड़वाईMajedar xxx Kahani gf ke sathwwwxxxx bhai ne ki apni behan ke sath sex Jabardasth Dostiगाँव की लङकियो कीsex stproyMoapsi ki chudae xxx porn vदोनो ने बड़ी बेरहमी से पेलाhttps://otkrivashki.ru/teatroporno/maami-ki-sex-kahani/Aneeta aur sapna ki chudai kahani आँखों से कोसों दूर थी। अचानक अरूण ने मेरी ओर करवट ली और बोले, “पानी दोगी क्या, प्यास लगी है !” मैं उठी और अरूण के लिये पानी लेने चली गई। वापस आई तो अरूण जग चुके थे और मेरे हाथ से पानी लेकर पीने के बाद मुझे खींचकर फिर से अपने पास बैठा लिया और अपना सिर मेरी गोदी में रखकर लेट गये। मैं उनके बालों को सहलाने लगी, मैंने देखा उनका लिंग मूर्छा से बाहर आने लगा था उसमें हल्की हलxxx khani halaki meri gand ka ched khula hua thaकुँवारी लड़की की चूत की फोटो अनेकNurs ki jhante kahaniखामैस चुदाई की कहानीयाChoda tela laga ki chodiwww.hindi me sexse kok shastir.comसासू मॉ कि चूदाईHindi chudai ki kahani punish dildo se ghar me sab ek dusre ki chut ayr gand chudai kahani latest hindiholi m chudai kpde fadker chudai storyदर्द से तड़पती आंटी सेक्सी मूवीसhard se hard chute mai land kese ghusae hindi sexy storyचुत के चोदु और गाण्ड के गाण्डू चुटकलेमेरी छोटी सी चूत मे जब उसका मोटा सा लंड घुसा तो मै बेहोश हो गईanyar vashna mamu bhanjiचुदाई photosaj dhaj kar sexstoriesबुर चोदी भांजी कहानीभाभी देवर मित्रा सेक्स कहानीसेक्सी कहानिया ओडीयो हिदी बतैmetro me gaand mari hindi storyमममी बहन चूदीmeri pyasi chut ko.faad daala land daalkeindiansexstores housewife swapingतिन्ना मौसी सेक्स स्टोरी